देखते देखते अश्क बहने लगे

देखते - देखते अश्क बहने लगे

देखते देखते अश्क बहने लगे

ये मुलाकात कैसी है मेरे सनम

जख्म दिल के मेरे रोके कहने लगे।।

देखते देखते   ………………..

तुमको क्या है पता कैसे जीता हूँ मै

याद में तेरी अश्को को पीता हूँ मैं

क्या कमी थी मोहब्बत में  मेरे बता

लोग क्यों  बेवफा मुझको कहने लगे।।

देखते देखते……………………

तेरी आँखों में जब मेरी तस्वीर थी

कितनी अच्छी भली अपनी तकदीर थी

दिल दुखा  करके तुमको मजा क्या मिला

जिन्दगी  मेरी मुझपे  ही हंसने लगे।।

देखते देखते ………………..

गम जुदाई का बर्दाश्त होता नहीं

इस जमाने पे मुझको भरोसा नहीं

अब बता मुझको जीने से क्या फायदा

जिस्म से जान अब तो निकलने लगे।।

देखते देखते अश्क बहने लगे

ये मुलाकात कैसी है मेरे सनम

जख्म दिल के मेरे रोके कहने लगे।।

 

इसे भी पढ़े : तन्हा दिल – कभी जो दिल में रहते थे हमदर्द बनके मेरे 

देखते देखते अश्क बहने लगे Read More »

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है I

जाम  बोतल से नहीं आँखों से पीना है II

बहुत रुसवाई, मिलन जुदाई हो चुके है ,

जाने कितने पल खुशियों के खो चुके है I

खाते थे एक दूजे पर मरने मिटने की कसमे,

फिर भी जाने कितनी दफा बेवजह रो चुके है I

मेरे सिवा भी जाने कितनो की वो हसीना है ,

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है II

जाम बोतल से नहीं आँखों से पीना है II

वो बेवकूफी भरी मेरी जो हालात थी,

याद आती है वो जो पहली मुलाकात थी I

उसके हुश्न और सादगी पर मर मिटा था ,

लुट चुकी उस पर मेरी हर जज्बात थी I

खत्म हो चुकी तुझसे मेरी हर तमन्ना है ,

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है II

जाम बोतल से नहीं आँखों से पीना है  II

इसे भी पढ़े : वो लम्हा अब भी मुझे याद आता है ..

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है Read More »

वो लम्हा अब भी मुझे याद आता है

वो लम्हा अब भी मुझे याद  आता है II

वो पहली बार जब तुमसे नजरे मिली थी

मानो क्यारी की हर इक कलिया खिली थी

मन मेरा उमंगो से भर उठा था

दिल की धड़कने तेज हो गयी थी

इक टक देखता ही रह गया था

मेरी चेतना जाने कहाँ खो गयी थी

पल पल की वो याद अब भी  सताता है I

वो लम्हा अब भी मुझे याद आता है II

कुछ दिन हो चले थे

कुछ शिकवे तो कुछ गिले थे

रहते थे साथ हरदम

जैसे कब के बिछड़े मिले थे

उसकी  मुस्कराने की अदाये

 खुशबू से भर जाती थी फिजाये

मै मदहोश हो चला था

कुछ यूँ ही सिलसिला था

वो खुशबू अब भी सांसो में समां जाता है I

वो लम्हा अब भी मुझे याद आता है II

उसका रोज मन्दिर में पूजा करना

नजरे बचाकर मुझे देखा करना

टीका  लगाती बड़े प्यार से

फिर छूकर भी अनदेखा करना

मेरी हर बातो का समर्थन करती

घंटो बैठकर जाने क्या मंथन करती

फिर इक दिन कुछ ऐसा लम्हा आया

न बीतने वाला तन्हा मौसम लाया

रह रहकर मुझे तडपा जाता है I

वो लम्हा अब  भी मुझे याद आता है II


इसे भी पढ़े : पति पत्नी की नोक झोंक वाली कविता 

वो लम्हा अब भी मुझे याद आता है Read More »

पति-पत्नी नोंक – झोंक वाली कविता

5/5

एक पति-पत्नी कच्चे मकान में रह रहे है, थोड़ी नोक झोक के साथ उनकी दिनचर्या चल रही है I अब सुनते है उनकी इसी रोजरोज  की नोंक झोंक की एक झलक  –

पत्नी- सुनते हो जी 

पति – मै तो बहरा हूँ जी ।

पत्नी- आप तो बुरा मान गए ।

पति- हम आप की चाल जान गये ।

पत्री- आज क्या खाओगे , जो कहो वो बनाऊ ।

पति- मै मुर्ख हूँ जो आपनी मनपसन्द चीज बताऊ ।

पत्नी- ऐसे क्यों कहते हो , मैंने कब की है अपनी मनमर्जी ।

पति – करोगी जो तेरे मन में है, फिर मै क्यों लगाऊ  अर्जी ।

पत्नी- मेरे पास आओ अब दूर न जाओ, खूब सेवा करुँगी तुम्हारी ।

पति – मैं जानता हूँ खूब पहचानता हूँ, क्या मेरी मति गई है मारी ।

पत्नी – आ भी जाओ काम बहुत है , कुछ तुम करो कुछ मैं करू ।

पति- यह  सब तेरी जिम्मेदारी है , बेवजह ही मैं क्यों मरूं ।

पत्नी- मरे आपके दुश्मन , कुछ अच्छा खाने को है मेरा  मन ।

पति- लाला के यहाँ से कुछ मँगा ले, जो मर्जी है बनाले ।

पत्नी- लाला का बहुत उधार है, हमेशा पैसे ही मांगता है ।

पति- किसी का उधार  हमने दिया है,  क्या वो नहीं जानता है ।

पत्नी – इतना भी अच्छा नहीं होता, कर्जा चुका देना चाहिए ।

पति- तो जल्दी से मायके से अपने कुछ रूपये लेकर आईये ।

पत्नी- आप बात – बात पर मेरे मायके को मत लाया करो ।

         ये सब कहना  व्यर्थ है , हमेशा न सताया करो ।।

पति – मैंने तुझे कब कब सताया है, झूठ कहते तुझे शर्म नहीं आती ।

    मैं तेरे मायके को नहीं लाता, पर तू मेरे बाप पर जरुर है जाती ।।

पत्नी – वैसे तो मैं आपकी धर्मपत्नी हूँ , अर्धान्ग्निनी हूँ , सहभागिनी हूँ ।

         नाम भी महालक्ष्मी रखा है,  पर इस घर में अभागिनी हूँ ।।

पति- तू तो फिर भी भाग्यशाली है जो मेरे जैसा पति मिला है ।

         वर्ना मुझे पता है मायके में तेरा क्या क्या गुल खिला है ।।

पत्नी- ये सब कहते शर्म नहीं आती, मुझ पर इल्जाम लगाते हो ।

       खुद निकम्मे घर पर बैठकर जाने क्या क्या गुल खिलाते हो ।।

पति – अपने पति को निकम्मा कहते हुए तेरी जुबान नहीं कटती है।

         इतना ही बुरा हूँ अगर तो मुझसे ही सदा क्यों सटती है ।।

पत्नी – इस तरह से ताने यू हमको न मारो ।

        तुम्ही मेरे देवदास मै तुम्हारी पारो ।।

पति – तुम्हारी इसी अदा पर तो हम मरते है ।

         सच कहे हम सिर्फ तुमसे प्यार करते है ।।

पत्नी – छोडो इन बातो को कहो क्या बनाऊ ।

पति – पहले लाला से कुछ सामान उधार ले आऊ ।

इसी तरह से दोनों पति पत्नी ख़ुशी से रहते है ।

सिर्फ मन बहलाने के लिए ही झगड़ा करते है ।

इसे भी  पढ़े: तूने मुझे बुलाया मेरी वालिये 

पति-पत्नी नोंक – झोंक वाली कविता Read More »

जिन्दगी में एक बार- जरूर करें प्यार

हर इन्सान को जिन्दगी में एक बार प्यार जरूर करना चाहिए Iप्यार होने के बाद आपको सभी  भावनाओ, दर्द, एहसास, ऐतबार, इन्तजार, बेवफाई –रुसवाई, इर्ष्या, चिडचिडाहट ना जाने कितने ऐसे चीजो का मतलब समझ में आ जाता है जो वर्षो तक अध्ययन करने के बाद भी बड़े बड़े विद्वानों को समझ में नहीं आती I

एक एक पल का इंतजार कितना भारी महसूस होता है, शायद ही कोई समय का पावंद व्यक्ति समझ सके I हर बात को सोच समझ कर बोलना पड़ता है, कही उसके प्रेमी या प्रेमिका को बुरा न लग जाये I अपने और उसके पसंद नपसंद का ख्याल करना बहुत कुछ सिखा  जाता है I

अगर आप खुशकिश्मत हुए तो आपका प्यार सफल हो जायेगा, फिर हर चीज आपको आसान  लगने लगती है I फिर जिन्दगी
में बड़ी से बड़ी चीजो को हासिल करना आपका जुनून बन जाता है I

लेकिन अगर आपका प्यार सफल नहीं होता है या प्यार में धोखा मिलता है जो अक्सर मिलता ही रहता है I ऐसी स्थिति में जो एक दुखो का पहाड़ आपके ऊपर गिरता है, अगर उसे आपने संयम से दिल को काबू में रखकर सामान्य कर लिया तो यकींन मानिये जिन्दगी में कभी भी बड़ी से बड़ी मुसीबत के सामने भी आप विचलित नहीं हो सकते I

आप एक ऊँचे मुकाम को हासिल कर सकते है क्योकि अब आपके जज्बात खत्म हो चुके है I  किसी के लिए कोई भावना शेष नहीं रह गयी है I अब आपको  सिर्फ आपकी मंजिल दिखाई देती है I अब आपकी जिन्दगी में कोई सही-गलत, रोक-टोक करने वाला नहीं रह जाता I फिर एक बार सफल होने के बाद कोई आपको प्यार करने से इंकार कर सके ऐसा शायद ही होगा I

लेकिन अगर फिर भी ऐसा होता है तो अपने आप से प्यार करना सीख लीजिये, फिर किसी के प्यार की जरुरत नहीं पड़ेगी 

 इसे भी पढ़े : प्यार एक प्रसाद है ……

जिन्दगी में एक बार- जरूर करें प्यार Read More »

चेहरा – ( दाग चहरे पर नहीं दिल में है) 

(पात्र – सिद्धांत- २५ साल, मुस्कान- २२ साल, बिक्रांत- २५ साल, सार्थक- ३५ साल )

दृश्य- १

एक लड़का और लड़की स्कूटी से जा रहे है, दोनों बहुत खुश लग रहे है आपस में बाते करते हुए हंस रहे है I

इतने में सामने से एक लड़का इशारा करता है,  लड़की पलट कर देखती है जो उसका कोई पुराना दोस्त होता है I

लड़की स्कूटी चला रहे लड़के से बोलती है I

लड़की- अरे सिद्धांत  उधर देखो मेरा पुराना दोस्त है, स्कूटी घुमाओ जल्दी I

और इसी हडबडाहट में स्कूटी  टकरा जाती है ,  लडकी तो बच  जाती है पर लड़के के मुंह  पर चोट  लग जाती है I

बगल से एक और युवक जा रहा होता है थोड़े से फटेहाल में है , एक्सीडेंट देखकर रुक जाता है I

युवक – अरे जल्दी से इन्हें हास्पिटल ले चलो , खून ज्यादा बह रहा है I

फिर सभी उसे हॉस्पिटल लेकर चले जाते है I

दृश्य - २

सिद्धांत,  जिस लडके  को चोट लगी थी बिस्तर पर लेटा हुआ है उसके चेहरे पर ज्यादा चोट लगने के कारण चेहरे पर दाग आ गया है I

इतने में लड़की उसी पुराने दोस्त के साथ उससे मिलने आती है उसके चेहरे पर दाग देखकर थोडा चौंकती है लेकिन खुद को सम्भाल  लेती है

मुस्कान – ये दाग अभी तक ……  डाक्टर ने क्या बोला … ये ठीक तो हो जायेगा न ?

सिद्धांत – शायद नहीं होगा , डाक्टर साहब कह रहे थे की दाग ऐसा ही रहेगा अगर ठीक करना है तो प्लास्टिक सर्जरी करवानी पड़ेगी I और तुम तो जानती ही हो की इतनी महंगी सर्जरी मैं करा नहीं सकता I

मुस्कान – मन ही मन तेरी औकात ही इतनी कहाँ I

सिद्धांत – तुम कुछ कह रही हो शायद I

मुस्कान – (हडबडाते हुए) नहीं कुछ नहीं I तुम जल्दी ठीक हो जाओगे I

बिक्रांत (लड़की का दूसरा दोस्त)  – अब चलते है हमें देर हो रही हैI तुम्हारे दुकान का कागज भी सही करवाना है I

 सिद्धांत –क्या  बात बात है मुस्कान, कुछ दिक्कत है क्या ?

मुस्कान- नहीं कुछ नहीं तुम आराम करो I बिक्रांत है न ! सब संभाल लेगा I

मुस्कान , बिक्रांत का हाथ पकड़कर वंहा से चली जाती है I

 

सिद्धांत उसे जाते हुए देखता है , फिर बगल में रखी किताब पढने लगता है I

दृश्य - ३

सिद्धांत कुर्सी पर बैठकर किताब पढ़ रहा होता है इतने में फोन की घंटी बजती है I

सिद्धांत- हैलो (उधर से एक लड़की की आवाज आती है )- अरे मुस्कान तुम …. कैसी हो I

मुस्कान और उसका दोस्त बिक्रांत दोनों बाइक पर होते है I

मुस्कान- सिद्धांत मैं कुछ कहना चाहती थी, वो मै ……मै …… तुम्हारे साथ ..

सिद्धांत- बोलो क्या बात  है , रुक क्यों गयी ?

(उधर बिक्रांत बोलता है उससे पूछ उसका चेहरा कैसा है अब)

मुस्कान- तुम्हारा फेश कैसा है अब, दाग सही तो नहीं हुए होंगे ?

सिद्धांत- नहीं, मैंने तो बताया तो था की सर्जरी से सही हो जायेगा I

मुस्कान- हां मालुम है और वो कभी नहीं होगा, तो मै……. मैं  नहीं चाहती की कल को अगर मैं तुम्हे किसी से मिलवाऊ तो लोग पता नही क्या कहेंगे

सिद्धांत- क्या – क्या? मैं  समझा नहीं ?

बिक्रांत ,( मुस्कान के हाथ से मोबाइल छीन लेता है)- सुन भाई अब मुस्कान तेरे साथ नहीं रह सकती , कुछ दिनों बाद हम शादी कर रहे है I अब तू उसे हमेशा के लिए भूल जाना I और फ़ोन काट देता है I

सिद्धांत थोडा मायूस हो जाता है लेकिन फिर किताब पढने लगता है I 

दृश्य- ४

दफ्तर का दृश्य है I एक क्लर्क बाहर बैठा कुछ काम कर रहा है I

इतने में बिक्रांत और मुस्कान उस आफिस के सामने आते है I उनके हाथ में कुछ पेपर है I दोनों बहुत परेशान लग रहे है I

मुस्कान- हमें साहब से मिलना है बहुत अर्जेंट है I

क्लर्क  – आपके पास साहब का अपॉइंटमेंट है क्या ?

बिक्रांत- नहीं हमारे पास नहीं है I

क्लर्क – तो फिर साहब नहीं मिल सकते I एक काम करो अपना पेपर छोड़ जाओ और नाम और नम्बर भी, मैं आपको एक दो दिन में बुला लुंगा I

मुस्कान- नहीं हमें बहुत जरूरी है , अगर साहब ने हस्ताक्षर नहीं किये तो हम सड़क पर आ जायेंगे I हमारा दुकान नीलाम हो जायेगा I

दोनों हाथ जोड़कर गिडगिडाने लगते है I

क्लर्क  – अच्छा रुको मैं देखता हूँ I

(अन्दर बैठा व्यक्ति इनकी बाते सुन लेता है और आवाज देता है , सार्थक उन दोनों को अन्दर ले आओ I

 दोनों अंदर जाते है और चौक जाते है I सामने कुर्सी पर सिद्धांत बैठा होता है I

मुस्कान- तुम और यंहा , इस कुर्सी पर …

सार्थक (क्लर्क ) – मैडम तुम नहीं आप कहो , यही है यहाँ के नए आफिसर I

सिद्धांत- जी हाँ मैं, तुम्हे तो पता ही होगा की मैं UPSC की तयारी कर रहा था I पहले तो मेरे पास समय बहुत कम होता था पढने के लिए , लेकिन  जब तुम मुझे छोड़कर चली गयी तो मैं  पूरी तरह से फ्री हो गया I मैंने पूरा समय पढाई में लगाया और आज इस ओहदे पर पंहुचा गया I

मुस्कान- सॉरी सिद्धांत… मुझे माफ़ कर दो I मैंने तुम्हारे साथ गलत व्यव्हार किया I

और दूसरी तरफ मुस्कराते हुए क्लर्क  को देखकर , तुम तो वही हो न जो उस दिन एक्सीडेंट में हमारी मदद किया था I

सार्थक – हाँ मैं वही हूँ, एक दिन किसी काम से साहब हमारे गावं में आये थे ,मैं बेरोजगार था, साहब ने मेरा हालचाल पूछा और यहाँ  नौकरी दे  दिया I

बिक्रांत – परन्तु आपके चेहरे पर दाग था न ?

सिद्धांत- मैंने सर्जरी करवा लिए, सोचा एक तो चली गयी कही ऐसा न हो की दूसरी मिले ही न और हंसने लगता हैI

इतने में दोनों वापस जाने लगते है , उन्हें वापस जाता देखकर सिद्धांत उन्हें रोकता है I

सिद्धांत- रुको तुम्हारा कोई काम था न, लाओ मैं साइन कर देता हूँ I

मुस्कान उसे पेपर देती है , सिद्धांत पेपर चेक करता है, और वापिस कर देता है I

सिद्धांत- सॉरी मैडम मैं इस पर साइन नहीं कर सकता I ये अवैध है,  हाँ अगर कुछ और सहायता चाहिए तो सार्थक को बोल देना I

दोनों मायूस होकर चले जाते है I

 सिद्धांत कुर्सी पर बैठकर काम करने लगता है और सार्थक बाहर अपनी जगह पर ……………..       


इसे भी पढ़े : पागल- हर इन्सान की अपनी अहमियत है 

चेहरा – ( दाग चहरे पर नहीं दिल में है)  Read More »

दोस्ती में सोच संकरा नहीं सकारात्मक रखे

आप दो दोस्त है और एक काफी दिनों से परेशान हो, बहुत संघर्ष
कर रहा  हो, हर छोटी बड़ी बात उसकी तुम्हे पता है I

आप भी उसे सांत्वना  देते रहते हो की सब ठीक हो जायेगा I

फिर कुछ दिन बाद वो सिर्फ अपने बारे में बात करने लगता  है , की उसने ऐसा किया, उसने वैसा किया, आज उसे
एक उपलब्धि मिली है, आगे भी बात चल रही है इत्यादि I

अब आप सोचना शुरू कर  देते है की आपका दोस्त बदल चुका है , हर वक्त
अपने बारे में ही बात करता है , हर छोटी बड़ी उपलब्धियों को गिनवाता रहता है, कुछ
ज्यादा ही उड़ने लगा है, एकदम खुदगर्ज हो चुका है I

परन्तु सच तो ऐसा भी हो सकता है की वो आपके साथ हर छोटी बड़ी
ख़ुशी इसलिए साझा करता है की ताकि आपको लगे की अब उसके संघर्ष वाले दिन ख़त्म होने
वाले है I अब उसकी परेशानी ख़त्म होने वाली है I और ये सब बाते सिर्फ आपके साथ करता
है क्योकि वो सिर्फ आप ही हो जिसे उसके अतीत के बारे में,  सपनो के बारे मे,  हालत और हालात  के बारे में सब कुछ पता है I और आपको यह सब जानकर ख़ुशी होगी क्योकि आप उसके हमदर्द हो, हमसफर हो , आपसे कुछ ऐसा रिश्ता है
जिसे बयाँ नही किया जाता I

अब सोचना आपको है की आप इन बातो को किस  दृष्टिकोण से देखते है I 


इसे भी पढ़े : रिश्ते मुट्ठी में बंद रेत की तरह होते है 

दोस्ती में सोच संकरा नहीं सकारात्मक रखे Read More »

पिता ही परम-पिता

तू मंदिर मंदिर भटक रहा , जिस प्रभु का करने को नमन I
इक भगवान है भूखा बैठा , जिसने दी है तुझको जीवन II
चढ़ा रहा फल फूल  मिठाई, धूप  नैवेद्य  करता अर्पण I
एक बूंद प्यास को तरस रहा, तेरे खातिर सब किया समर्पण II
अपने सपने पाने की खातिर, घुटने टेक करता विनती I
उसने तुझ पर कुर्बान किये, निज सपनों की न कोई गिनती II
इस पिता की आज्ञा से रामचंद्र, नर से नारायण तुल्य हुए I
पितृ भक्ति से न जाने कितने, सादे जीवन बहुमूल्य हुए II
जिस प्यार भाव से ऐ  बंदे, उस प्रभु का तू करता गुणगान I
बस एक बार दिल से पुकार, उस पिता को भी देकर सम्मान II
जो अब तक तुझको नही मिला, सच मान वो सब मिल जायेगा I
जो पूरा न कर सके  देवी देवता,  इक आशीर्वाद कर जायेगा II

इसे भी पढ़े: विश्वाश अपनों और गैरों के सहारे का मापदंड 

पिता ही परम-पिता Read More »

राज और राजदार – एक हद तक सीमित रखे

राज

हम सबकी जिन्दगी में कोई न कोई राज जरूर होते है अगर किसी कारणवश वो  सबके सामने आ जाये तो हो सकता है की आपकी जिन्दगी में कोई भी अनहोनी हो जाये

कुछ राज सकारात्मक भी हो सकते है लेकिन अधिकतर नकारात्मक ही होते है इसलिए तो उन्हें राज रखना पड़ता है

हम सबकी जिन्दगी में जाने अनजाने ऐसी घटनाये घट जाती है या कुछ ऐसा कर जाते है जिन्हें सोचकर बाद में पछतावा ही होता है

ये आपके साथ घटी हुई कोई घटना हो सकती है , या आपके द्वारा की गयी कोई भूल.

राजदार

अब चूकि कोई न कोई राज होने कारण एक राजदार भी होता है  जिसे आपसे ज्यादा आपके बारे में पता होता है I

हम अपनी छोटी बड़ी सारी बाते उसके साथ साझा करते है I लेकिन एक समय ऐसा भी आ जाता है जब दोनों के रास्ते अलग अलग हो जाते है I चाहे वो व्यक्तिगत हो या व्यावसायिक कारणों से I ऐसे में हमारे मन में एक ही शंका उठती है की क्या वो भी उस राज को राज रख पायेगा जो सिर्फ और सिर्फ उसे ही पता है I अगर कही उसने किसी के सामने उसे व्यक्त कर दिया तो मेरी इज्जत भी जा सकती है,   हमारी सारी  छबि धूमिल हो सकती है I अब इस हालात में हम  कुछ भी करने या न करने की स्थिति में रहते है I इसलिए जितना संभव हो सके किसी राजदार से तो दूर रहे , लेकिन अगर है तो कोशिश करे की उसके साथ एक दायरा बना कर रखे I

तो क्या हमें अपने राज किसी को बताने नहीं चाहिए ?

नहीं, मै  तो यही जनता हूँ की हर इंसान  से कोई न कोई भूल अवश्य हो जाती है,  और कुछ न कुछ अनचाही  घटनाये भी हो जाती है I आपको चाहिए की जितना संभव हो अपने राज अपने तक ही सीमित रखे I क्योकि  उसके उजागर होने से आपकी इज्जत दावं पर भी लग सकती हैI वो आपकी कोई भूल भी हो सकती है I लेकिन समय के साथ हर बड़ी छोटी घटनाएं ढक जाती है I

अब हमें खुदको सबके सामने कैसे प्रस्तुत करना है  ये सिर्फ आपके विचार पर निभर है

क्या पति-पत्नी के बीच में राज रहना चाहिए ?

मेरे एक दोस्त ने मुझसे कहा की वो अपनी पत्नी को बेहद प्यार करता था I एक दिन बातो ही बातो में उसने वो सब बता दिए जो की उसकी नजर में महज एक भूल थी लेकिन  उस घटना के बाद दोनों के बीच में तनाव उत्पन्न हो गया I मैं  यह नहीं कहता की अपने जीवनसाथी से कोई बात छुपा कर रखो.मैं इतना जरूर कहना चाहूँगा की जिस बात को राज रखने में ही परिवार की भलाई हो उसे राज ही रहने दे तो जीवन आसान  रहती है I  शादी से पहले की जिन्दगी में दोनों के कुछ राज जरूर होते है अब उन बातो को आगे लाने का कोई औचित्य नहीं है I

कोशश करे की पुनः ऐसी कोई भूल न हो जाये जिससे एक दुसरे से नजर न मिला पाए . इस लिए बीती हुई बातो पर पर्दा डालने में ही भलाई है


इसे भी पढ़े:  विश्वास, अपनो और गैरों के सहारे का मापदंड

राज और राजदार – एक हद तक सीमित रखे Read More »

प्यार एक प्रसाद है​

प्यार कोई सस्ती चीज़ नहीं जो यूँ ही लोग बांटते रहे, और इतनी महंगी भी नहीं की किसी को मिल भी न सके I

प्यार एक पूजा है, और एक उचित समय तक पूजा करने के बाद ही प्यार का प्रसाद मिल सकता है I

अब प्रसाद देने वाले के ऊपर निर्भर करता है की वो आपको किस मात्रा  में दे, अगर कम मिलता है तो भी हमें निराश नहीं होना चाहिए I कभी कभी हम प्रसाद को दोबारा मांगने की भी चेष्टा करते है, तो कभी मिल जाता है और ज्यादातर नहीं मिलता है I हमें इस बात से निराश नहीं होना चाहिए , बल्कि खुश होना चाहिए क्योकि किसी किसी के नसीब में तो इतना भी नहीं है I

अब आपकी लगन और निष्ठा पर निभर है की आपका प्यार कब तक स्थायी रहता है क्योकि प्यार पाने वालों की क़तार बहुत लम्बी है I जिन्दगी में सब कुछ आसानी से नहीं मिलता है, हमें लगातार कोशिश करते रहना चाहिए I 

इसे भी पढ़े : इतने तो खुशकिस्मत नहीं जो किसी का प्यार मिल जाये………

प्यार एक प्रसाद है​ Read More »

इतने तो खुशकिस्मत नहीं जो किसी का प्यार मिल जाये।

इतने तो खुशकिस्मत नहीं जो किसी का प्यार मिल जाये।

पल भर का साथ ही काफी है जिंदगी गुजारने के लिए।।

वो जरा साथ क्या आये हम प्यार समझ बैठे।

उनकी मीठी यादों के हक़दार समझ बैठे।।

मेरे उम्र भर की हंसी,उनके मुस्कान से कम  है

बेमतलब ही एक मतलबी को यार समझ बैठे।।

खुद को आईने में देखते ही, वो मुझको आइना दिखा गयी।

अपने औकात के मुताबिक, प्यार करना सिखा गयी।।

इतने तो खुशकिस्मत नहीं जो किसी का प्यार मिल जाये। Read More »

विश्वास, अपनो और गैरों के सहारे का मापदंड

आज भरम टूट ही गया, दूर हो गई सारी गलतफहमी

जो चाहकर भी नहीं रोक सके उसके आंखों की नमी।।

जिस विश्वास को बनाने में तुम अपना सौ प्रतिशत लगा देते हो, हर वह संभव प्रयास करते हो जिससे आप दोनों के बीच की विश्वास की

डोर मजबूत होती जाए I तुम उसे यह जताने मे सक्षम हो जाओ की अब तुम्ही मात्र एक ऐसे व्यक्ति हो जिस पर व आँख बंद करके भी

भरोसा कर सकती है। और उसे ऐसा लगने भी लगा जो तुम चाहते हो तो सब कुछ अच्छा लगतहै और गाड़ी मानो पटरी पर चल

पड़ती है। एक दूसरे के सहारे कई सारे सपने बुनने लगते है, और हर छोटी बड़ी बाते साझा करते है। और समय का

पहिया तेजी से चल पड़ता है।

फिर अचानक किसी की बुरी नजर तुम्हारे इस पवित्र रिश्ते पर पड़ जाती है, और वह व्यक्ति इसे गलत ठहराने का हर

संभव प्रयास करता है, और कहीं न कहीं सफल भी हो जाता है। अब उसको तुम्हारे खिलाफ इतना भडका देता है,

तुम्हारी बुराई और उसके साथ सहानुभूति दिखाने का प्रपंच करता है, अब अगर उसके मन मे तुम्हारे प्रति

अविश्वास की भावना जगती है तो कहीं न कही ऐसा संभव है की कुछ तो शेष रह गया था जहाँ पर अभी भी

दरार थी, क्योकि छत अगर मजबूत हो तो लाख बारिश हो,पानी नही टपकता, लेकिन अगर एक सुई जितना भी

सुराख हो तो सब नष्ट हो जाता है।

अब चूकि वो तुमसे नाराज है, तुम्हे अविश्वास की नजरो से देखती है, साथ मे दुखी भी है क्योकि उसे किसी और

के द्वारा ठेस पहुँचा है, उसका दिल अंदर से रो रहा है……..

ऐसे मे अगर वो अपने दिल को बहलाने के लिए, अपने आंसू को रोकने के लिए, अपनी भावना को व्यक्त करने

के लिए किसी अतीत का सहारा लेती है, और उससे बात करके खुद को हल्का महसूस करती है तो जरा सोचो

फिर तुम कौन हो, क्या हुआ तुम्हारे विश्वास का, क्या उसके साथ तुम्हारा विश्वास अडिग रह पायेगा,

अब तुम्हारी भावनाओ का क्या? तुम्हारे उस प्यार, दोस्ती, इंसानियत या जो भी था वो तो चकनाचूर हो गया न।

मानता हूँ तुम बहुत अच्छे इंसान हो, दुसरो का ख्याल खुद से ज्यादा करते हो। सामने वाले को सदा खुश रखना

चाहते हो, लेकिन तुम हार गये, खुद से, क्योकि शुरुआत तो तुमने ही किया था…….

अब तुम्हारे पास एक ही रास्ता है……. जी हाँ, वही जो तुम सोच रहे हो………

परंतु तुम ऐसा नही करोगे, क्योकि तुम उसे दुख नही दे पाओगे, अब अगर हिम्मत है तो फिर से उसी नक्शेकदम

पर आगे बढ़ जाओ, अन्यथा पहले की तरह अपनी किस्मत भर भरोसा कर लो……

सामने वाले पर फर्क पड़े या न पड़े, परंतु तुम पर जरूर होगा।

अकेलानंद

विश्वास, अपनो और गैरों के सहारे का मापदंड Read More »

सच्चा प्यार और शक

आज के इस दौर में निःस्वार्थ प्रेम अकल्पनीय हैं, अगर किसी के साथ या किसी भी व्यक्ति को निःस्वार्थ प्रेम मिलता है तो

लोग उसे शक औऱ तार्किक नजरों से देखते हैं कि कहीं न कही इसमे कोई मतलब या स्वार्थ जरूर छिपा है,

कहते है दौलत , शोहरत और इज्जत , परिश्रम और पुरूषार्थ से मिल जाते है, मगर सच्चा प्यार या सच्ची दोस्ती

सिर्फ और सिर्फ नसीब से मिलता है, और ये हर किसी का नसीब नही होता है।

अगर आपको नसीब से ऐसा प्यार या प्यार करने वाले, साथ निभाने वाले मिल जाते है तो अनायास ही उन पर

शक करके या ये सोचकर कि अमुक व्यकि का कोई न कोई स्वार्थ होगा, तो ऐसा करके आप खुद के नसीब को

निष्फल कर रहे हों।

क्योकि ऐसे निस्वार्थ प्रेम करने वाले कभी नही चाहेंगे कि कोई उनके चरित्र पर शक करे औऱ फिर वो बिना कुछ

कहे या बिना किसी तरह का हानि पहुचाये आपकी जिंदगी से दूर चले जाते है।

अब निर्णय आपको करना है , उसे अपनाना है या ठुकराना है……………..

इसे भी पढ़े -रिश्ते तोड़ने से अच्छा है दूरिया बना ले

सच्चा प्यार और शक Read More »

पैसा , प्यार, और पहचान

किसी भी इंसान को अगर ” पैसा , प्यार, और पहचान ” उसकी क्षमता या उम्मीद से ज्यादा मिल जाये तो हो सकता है है की जाने या अनजाने में उससे छोटी या बड़ी गलती हो जाये , ऐसी स्थिति में उसका नुकसान हो सकता है।
इसलिए ऐसी स्थिति में संयम बरतने की आवश्यकता है।

पैसा , प्यार, और पहचान Read More »

रिश्ते मुट्ठी में बंद रेत की तरह है

 

रिश्ते हमारी मुट्ठी में बंद रेत की तरह होते है , अगर उन्हें ढीला किया जायेगा तो एक साथ नीचे गिर जाते है और अगर उन्हें जोर से पकड़ा जायेगा तो उंगलियो के बीच खाली जगह से निकलने की कोशिश करते है। अगर उनमे प्रेम और विश्वास की जल की बूंदे डालते रहे तो ये मजबूत हो जाते है।

यही हमारे बीच रिश्ते में भी होते है हमें सामंजस्य बिठा के रखना चाहिये। किस रिश्ते में कितने प्यार या मनुहार की जरुरत है इसका भी ध्यान रखना चाहिए। न तो बेवजह किसी पर ज्यादा ही प्यार जताना चाहिए क्योकि हो सकता है उस व्यक्ति को ये सब मात्र एक दिखावा लगे।
और जिसे जयादा प्यार की जरुरत हो उसे मात्र हम एक औपचारिकता निभा रहे हो।
इसके लिए आपको अपने विवेक से काम लेना चाहिए। जिसे आप प्यार करते है उसे विश्वास दिलाये की आप हर परस्थिति में उसके साथ है।
और जो आपको प्यार करता है उसकी भावना की क़द्र करनी चाहिए।

इसे भी पढ़े -रिश्ते तोड़ने से अच्छा है दूरिया बना ले

रिश्ते मुट्ठी में बंद रेत की तरह है Read More »