स्वयं से ज्यादा किसी को न चाहो….

जिस दिन आप किसी के याद में जी न सको तो समझ लेना आप बर्बादी के द्वार पर दस्तक दे चुके हो।

किसी को भी अपनी जिंदगी में इतनी अहमियत न देना की आपके हर सांस उसके अधीन हो जाये और आपको घुटन के सिवाय कुछ भी न मिले।

मुझे अकेले खुश रहते देख भले ही ये दुनिया मुझे घमंडी क्यो न समझे, पर सच तो यह है कि मैं इस मतलबी दुनिया को समझ चुका हूँ।

स्वयं से ज्यादा किसी को न चाहो…. Read More »

भला किसी का कर न सको तो

बुरा किसी का कर न सको तो,

भला किसी का मत करना।

कांटे बनकर चुभ न सको तो,

बनकर फूल तू मत रहना।।

बन न सको हैवान अगर तुम,

कम से कम शैतान बनो।

नही कभी भगवान बनो तुम,

न ही कभी इंसान बनो।

पापकर्म अपना न सको तो,

पुण्य के पथ पर मत चलना।।

कांटे बनकर चुभ न सको तो,

बनकर फूल तू मत रहना।।

इसे भी पढ़े – तूने मुझे बुलाया मेरी वाली ए …

भला किसी का कर न सको तो Read More »

तन्हा दिल

कभी जो दिल मे रहते थे हमदर्द बनकर मेरे,

जुदाई उनकी मुझको एक नई सौगात दे गई।

कुछ साथ रहकर भी गैरो का साथ देते रहे,

वो जिंदगी भर साथ देने के लिये,

मेरा साथ छोड़ गई……

 

सुलझी हुई थी जुल्फे, आंखों में खुशनमी थी,

जाने थी क्या बला वो, शायद ही कुछ कमी थी।

चाहेगी वो उसे ही, या चाहता है वो भी उसको।

उन दोनो को ही नही, सबको गलतफहमी थी।।

इसे भी पढ़े -ऐ तिरंगे आज बहुत नाज़ तो होगा तुझे

तन्हा दिल Read More »

कोरोना चक्र – एक प्रेम कथा

सूनी पड़ी है सड़के , मंजर है तनहा तनहा

सुबह का समय , सूरज की किरणे खिड़की के रास्ते सीधे कमरे में प्रवेश कर रही थी। बाहर चिडियो के चहचहाने और बच्चो के खलेने की शोर भी सुनाई दे रहे थे। समर्थ वो समर्थ जल्दी उठ जा कितना दिन चढ़ आया है,अभी तक सो रहा है, चिल्लाते हुए माँ की आवाज कानो में पड़ी तो वो झट से उठ बैठा। क्या माँ इतनी जल्दी जगा दिया, आज तो कालेज भी नहीं जाना है, शिकायत के लहजे में बोला और वाशरूम की तरफ बढ़ गया। सुबह के नौ बज चुके थे , डाइनिंग टेबल पर समर्थ और उसकी माँ के साथ एक छोटा बच्चा भी बैठा थ। अरे सनी सुबह इधर कैसे आ गया, पूछा समर्थ ने। उसकी माँ ने बोला ये सुबह से तीन बार आ चुका है, शायद तमन्ना को कोई किताब चाहिए थी इसलिए भेजा है। तमन्ना का छोटा भाई है सनी।

कोरोना चक्र – एक प्रेम कथा Read More »

गुमनामी से बदनामी भला

.गुमनामी से बदनामी भला, लोग याद तो किया करते है। 

और बदनाम वही होते है, जो नेक काम किया करते है।। 

इसे भी पढ़े- स्वयं से ज्यादा किसी को न चाहो…

गुमनामी से बदनामी भला Read More »

दूसरे के बन जाओ लेकिन किसी को अपना न बनाओ

आजकल के जिंदगी में किसी को अपना बनाने की भूल मत करना। अगर आपको लगता है की आप बहुत ही अच्छे व्यक्तित्व वाले व्यक्ति है तो आप दूसरे के बन जाने की कोशिश करना। क्योकि अगर आपने किसी को अपना बनाया तो संभव है आपको उससे धोखा अवश्य मिलेगा, ऐसी स्थिति में आपको दुखी होना पड़ेगा। और अगर आपको किसी ने अपना बनाया या आप किसी के हो गए तो उस व्यक्ति को कभी दुखी होने की स्थिति नहीं आएगी जैसा की आपका व्यक्तित्व है हर किसी को सम्मान और ख़ुशी बाटने का।

श्री अकेलानन्द जी

दूसरे के बन जाओ लेकिन किसी को अपना न बनाओ Read More »