काव्य

मुझको मेरे गाँव की होली याद बहुत आती है

मुझको मेरे गाँव की होली याद बहुत आती है

 

मुझको मेरे गाँव की होली याद बहुत आती है ।

बहती पुरवाई मानो दिल खींच गाँव ले जाती है ।।

मुझको मेरे गाँव की होली याद बहुत आती है ।।

HOLI (ART BY SIDDHANT )

फाल्गुन मॉस के आते ही इक अलग नशा छा जाता था ,

हंसी ठिठोली ताने बोली का माहौल बन जाता था ।

दादा बाबा ताऊ चाचा एक संग हो जाते थे ,

फगुआ गाते धूम मचाते मिलकर रंग जमाते थे ।।

वो मधुर तान और गाने की बोली कानो में अभी सुनाती है ,

मुझको मेरे  गावं की होली याद बहुत आती है ।।

पूरे साल भले लड़ते हो, चाहे दुश्मनी जानी हो,

होली के दिन ऐसे मिलते जैसे रिश्ता बहुत पुरानी हो ।

चाची जो गली बकती थी , फूटे आँख नहीं सुहाती थी ,

पर उस दिन पकवान बनाकर, पहले मुझे खिलाती थी ।।

वो गुलगुला, गुझिया मालपुआ की खुशबू अब ललचाती है ,

मुझको मेरे गाँव की होली याद बहुत आती है ।।

वो पहली बार जब मैंने उसके गाल पर रंग लगाया था,

उस पल मानो जैसे कोई बड़ा खजाना पाया था ।

कुछ चिढ़ी थी वो कुछ शरमाई भी, मैं था डर से काँप गया,

बाल्टी कर रंग लेकर दौड़ी तो उसका मनसा भांप गया ।

जो शर्ट रंगी थी आज भी उसके होने का एहसास कराती है ,

मुझको मेरे गाँव की होली याद बहुत आती है ।।

बड़े हुए तो शहर आ गए रुपये बहुत कमाने को ,

तब से मौका नहीं मिला होली पर गाँव को जाने को ।

हरा लाल नारंगी पीला कितने रंग लुभाती थी,

गाँव की होली का रंग तन मन अन्दर तक रंग जाती थी ।।

शहर की होली का रंग मानो कपड़े ही रंग पाती है ,

मुझको मेरे गाँव की होली याद बहुत आती है ।।

मुझको मेरे गाँव की होली याद बहुत आती है Read More »

जीना जब आसान लगे, इक बार मुहब्बत कर लेना (JEENA JAB ASAN LAGE EK BAAR MOHABBAT KAR LENA )

“जीना जब आसान लगे, इक बार मुहब्बत कर लेना “

जीना जब आसान लगे,

इक बार मुहब्बत कर लेना l

जब अच्छा हर इन्सान लगे,

एक बार मुहब्बत कर लेना ll

यौवन जब अंगड़ाई ले,

मस्ती में कुछ न दिखाई दे l

संगी साथी सब प्यार करे,

इक दूजे से इजहार करे II

खुशनुमा सभी हालात लगे,

इक बार मुहब्बत कर लेना I

जब अच्छा हर इन्सान लगे,

इक बार मुहब्बत कर लेना II

जब मिली नौकरी पक्की हो,

इच्छा अनुसार तरक्की हो I

दफ्तर में सबसे सम्मान मिले,

घर वालो का अभिमान मिले II

जब सस्ता हर सामान लगे,

इक बार मुहब्बत कर लेना I

जब अच्छा हर इन्सान लगे,

इक बार मुहब्बत कर लेना II

ये हंसी तुम्हारे चेहरे की,

पल भर में ही खो जाएगी I

बहकें बहके से फिरते रहोगे,

रात को नीद न आयेगी II

आँखों के आंसू तक सूखेंगे ,

सांसे भी घुट जाते है I

कहते है अकेलानंद यही की,

प्यार में सब लुट जाते है I

गर तुमको न विश्वास लगे,

इक बार मुहब्बत कर लेना II

जब अच्छा हर इन्सान लगे ,

इक बार मुहब्बत कर लेना II

जीना जब आसान लगे,

इक बार मुहब्बत कर लेना II

से भी पढ़े : एक तरफ़ा प्यार 

जीना जब आसान लगे, इक बार मुहब्बत कर लेना (JEENA JAB ASAN LAGE EK BAAR MOHABBAT KAR LENA ) Read More »

मेरे साथी – मेरी जान (MERE SATHI – MERI JAAN )

मेरे साथी – मेरी जान

तू दोस्त है ,  तू साथी है ,

तू जान है, तू जहान है I

तू ही प्रिये, प्रियतम तू ही ,

तू दिल की हर अरमान है II

 

मुझे एक फिक्र रहती हरदम,

मेरा भी कोई हमदम होता I

रहता हर पल वो साथ मेरे ,

चाहे ख़ुशी हो या फिर गम होता II

जिसे ढूंढ रही थी ये आँखे ,

वो इश्वर का वरदान है I

तू दोस्त है तू साथी है ,

तू जान है तू जहान है II

 

बिन तेरे था जीवन सूना ,

दिल की हर बात थी अनसूना I

इक पल भी आँखे नम जो हुई,

पग डोले, हिम्मत कम जो हुई I

तुम साथ थी हर पल ये कहते ,

आगे बढ़ साथ में मैं हूँ न II

हर दुःख को पल में हर लेती,

तेरी ये मधुर मुस्कान है I

तू दोस्त है तू साथी है ,

तू जान है तू जहान है II

 

अब तक जाने आये कितने ,

सब मतलब के, कोई  न अपने I

जिसका भी जितना साथ दिया ,

उसने उतना ही घात किया I

तुझको पाकर मैं धन्य हुआ,

है वादा कभी न बिछ्ड़ेंगे ,

हर मुश्किल से लड़ बैठेंगे I

चाहे कितना भी बड़ा तूफ़ान है II

कहता है अकेलानंद यही ,

तू ही मेरा स्वाभिमान है I

तू दोस्त है तू साथी है ,

तू जान है तू जहान है I

तू ही प्रिये, प्रियतम तू ही ,

तू दिल की हर अरमान है II

 इसे भी पढ़े : दोस्त – जो हर कीमत पर आपको सुरक्षित रखे  

 

मेरे साथी – मेरी जान (MERE SATHI – MERI JAAN ) Read More »

एकतरफा प्यार

एक- तरफा प्यार

हम दोनों कुछ यूँ ही मिले थे,

न जाने कब के सिलसिले थे l

प्यार हमें बिना तर्क था , 

लेकिन उसमे कुछ फर्क था ll

मैं सच्ची मोहब्बत करता था,

वो कच्ची मोहब्बत करती थी l

मैं जी जान से उसपर मरता था ,

और वो टुकडो में मरती थी ll

दिल की बातें अपने दिल से ,

मैं रोज उसे बतलाता था l

है इश्क मुझसे तुमसे कितना,

बस हर पल यही जताता था ll

वो आधे मन से मेरी बातें, 

सुन करके  बात घुमा देती l

प्यार से नजर मिलाने पर, 

वो पलके अपनी झुका लेती ll

मैं समझा था है शर्मीली, 

इसलिए वो नजर झुकाती है l

है कुछ तो प्यार उसे मुझसे, 

वो तभी तो मिलने आती है ll

मेरे लिए संकल्प थी वो, 

मैं उसके लिए विकल्प सदा l

वो मेरे हर साँस में बसती थी ,

मैं जीवन में उसके यदा कदा ll

वो छोड़ मुझे जा सकती है ,

मैं फिर भी उसको  चाहूँगा l

वो प्यार भी केवल मेरा था,

अब मैं ही उसे निभाऊंगा ll


 इसे भी पढ़े : वो जिन्दगी में आते ही क्यों है 

एकतरफा प्यार Read More »

वो जिन्दगी में आते ही क्यों हैं ………

वो जिन्दगी में आते ही क्यों है,

यूँ देखकर मुस्कराते क्यों है l

जुदाई का दर्द सहा नहीं जाता ,

यूँ अकेला छोड़कर जाते क्यों है II

पहले तो जी भर कर हंसाते है हमको ,

फिर टूटे दिल तक रुलाते क्यों है I

हर पल खुशियों  से भर देते है झोली,

फिर नाराजगी से सताते क्यों है II

जिसके बिना कोई रौनक नहीं थी ,

उसको ही महफ़िल से भगाते क्यों है I

जब दुश्मन के जैसी करनी थी हरकत,

तो पहले अपनापन जताते क्यों है ll

जिन्दगी तो अकेले ही कटनी थी अकेलानंद,

फिर किसी को अपना  बनाते क्यों है l

प्यार ही सब कुछ होता था यारो,

ऐसी अफवाह फैलाते क्यों है II

इसे भ पढ़े : ऐ मुसाफिर आज तू फिर से अकेला हो गया 


वो जिन्दगी में आते ही क्यों हैं ……… Read More »

करना है तो कर वरना टाइम पास मत कर

करना है तो कर, वरना टाइम पास मत कर

तेरे जैसे आये कितने छत्तीस मेरे लाइफ में,

उन सबमे में थे सारे गुण, जैसे एक तवाइफ़ में l  

साथ घूमना शापिंग करना हर लड़की का पेशा है,

केवल तुमसे प्यार करे, देखा न कोई ऐसा है l

कहता हूँ मैं बात ये सच्ची, दम हो तो बर्दाश्त कर

करना है तो कर, वरना टाइम पास मत कर ll

दिन का चैन, नीद रात की,  हम सब लड़के खोते है,

तब जाकर कही जरा सा बैंक बैलेंस जोड़ते है l

तुम सब केवल हुश्न दिखाकर, सारा मॉल उड़ाती हो,

मन में होता कपट तुम्हारे, झूठा प्यार दिखाती हो l

खुद के पैसो पर ऐश करो, ऐसी अपनी औकात कर

करना है तो कर, वरना टाइम पास मत कर ll

 

 इसे भी पढ़े : ऐ मुसाफिर आज तू फिर से अकेला हो गया 

करना है तो कर वरना टाइम पास मत कर Read More »

तू तो कहता था तुझे प्यार नहीं है

तू तो कहता था तुझे प्यार नहीं है,

तो अपने आप को  जलाता क्यों है l

तू तो कहता था तुझे दर्द भी नही होता,

तो अपने आँखों से बताता क्यों है ll

माना की उसकी जुदाई से तुझे गम नहीं,

फिर यूँ ही अपने दिल को रुलाता क्यों है l

एक एक करके दूर हुए तुझसे अपने,

फिर भी उनसे अपनापन जताता क्यों है ll

नहीं लिखा प्यार अगर तेरी जिन्दगी में,

फिर भी अपनी किस्मत आजमाता क्यों है l

तू तो पहले भी अकेला था ऐ अकेलानंद,

फिर गैरो से महफ़िल सजाता क्यों है ll

मिटा दे हर किसी की याद अपने दिल से,

याद कर उन्हें झूठा ही मुस्कराता क्यों है ll

तू तो कहता था तुझे प्यार नहीं है,

तो अपने आप को जलाता क्यों है ll

इसे भी पढ़े: देखते देखते अश्क बहने लगे 

तू तो कहता था तुझे प्यार नहीं है Read More »

एहसास आंसुओ के सैलाब का

तुम्हारी पलको के भीगने के एहसास मात्र से ही जिसका दिल रो पड़ता हो, वही तुम्हारी आँखों में आंसुओ के सैलाब से भी न पिघले, तो समझ लेना वजह बहुत ही बड़ी है l 

 “तेरी यादों में सदा खोये रहते है ,

अब तो बिना सपनों के सोये रहते है l 

तूने कभी इन आँखों की गहराई  न देखी ,

ये बिना आंसुओ के भी रोये रहते है “ll 

एहसास आंसुओ के सैलाब का Read More »

जो कभी हर मुस्कान पर मरते थे

कभी जो मरते थे हर मुस्कान पर मेरी,

वो मेरी हंसी पर पहरा लगाने लगे है l

सुलाते थे जो मुझको पलकों पर अपनी,

आज रात – दिन वो जगाने लगे है ll

तरसता हूँ  मिलने को कहते थे हर पल,

अब एक पल में भगाने लगे है l

पहले तो देते है जख्म जी भरके ,

फिर बेवजह मरहम लगाने लगे है l

शिकायत करू क्या खुदा से भी अब मै,

ऐसे क्यों इंसान बनाने लगे है l

सदा टूट जाता है जब दिल तुम्हारा ,

फिर भी क्यों किस्मत आजमाने लगे है ll

इसे  भी पढ़े : आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है 

 

 

जो कभी हर मुस्कान पर मरते थे Read More »

ऐ मुसाफिर आज तू, फिर से अकेला हो गया

ऐ मुसाफिर आज तू, फिर से अकेला हो गया I

महफिलों की बात क्या, एकांत में ही खो गया II  

क्यों बहकता है तू बन्दे, सुनके दो मीठे बोल के ,

छोड़ जाते है तुम्हारे, जीवन में विष घोल के I

जो जगाई आस थी विश्वास की दिल में उसे,

जो मिला  हमदर्द बनके,  दर्द देकर खो गया I

ऐ मुसाफिर आज तू,  फिर से अकेला हो गया II

चेहरे पर मुस्कान तेरे, रहते थे हर पल कभी ,

साथ तेरे रहने से, गम भूल जाते थे सभी I

दिल लगाके तूने फिर क्यों, ऐसी गलती कर डाली ,

उम्र भर आंखे न भीगी, एक पल में रो गया II

ऐ मुसाफिर आज तू, फिर से अकेला हो गया

महफिलों की बात क्या एकांत में भी खो गया II

से भी पढ़े – तन्हा दिल ………,

ऐ मुसाफिर आज तू, फिर से अकेला हो गया Read More »

देखते देखते अश्क बहने लगे

देखते देखते अश्क बहने लगे

ये मुलाकात कैसी है मेरे सनम

जख्म दिल के मेरे रोके कहने लगे।।

देखते देखते   ………………..

तुमको क्या है पता कैसे जीता हूँ मै

याद में तेरी अश्को को पीता हूँ मैं

क्या कमी थी मोहब्बत में  मेरे बता

लोग क्यों  बेवफा मुझको कहने लगे।।

देखते देखते……………………

तेरी आँखों में जब मेरी तस्वीर थी

कितनी अच्छी भली अपनी तकदीर थी

दिल दुखा  करके तुमको मजा क्या मिला

जिन्दगी  मेरी मुझपे  ही हंसने लगे।।

देखते देखते ………………..

गम जुदाई का बर्दाश्त होता नहीं

इस जमाने पे मुझको भरोसा नहीं

अब बता मुझको जीने से क्या फायदा

जिस्म से जान अब तो निकलने लगे।।

देखते देखते अश्क बहने लगे

ये मुलाकात कैसी है मेरे सनम

जख्म दिल के मेरे रोके कहने लगे।।

 

इसे भी पढ़े : तन्हा दिल – कभी जो दिल में रहते थे हमदर्द बनके मेरे 

देखते देखते अश्क बहने लगे Read More »

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है I

जाम  बोतल से नहीं आँखों से पीना है II

बहुत रुसवाई, मिलन जुदाई हो चुके है ,

जाने कितने पल खुशियों के खो चुके है I

खाते थे एक दूजे पर मरने मिटने की कसमे,

फिर भी जाने कितनी दफा बेवजह रो चुके है I

मेरे सिवा भी जाने कितनो की वो हसीना है ,

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है II

जाम बोतल से नहीं आँखों से पीना है II

वो बेवकूफी भरी मेरी जो हालात थी,

याद आती है वो जो पहली मुलाकात थी I

उसके हुश्न और सादगी पर मर मिटा था ,

लुट चुकी उस पर मेरी हर जज्बात थी I

खत्म हो चुकी तुझसे मेरी हर तमन्ना है ,

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है II

जाम बोतल से नहीं आँखों से पीना है  II

इसे भी पढ़े : वो लम्हा अब भी मुझे याद आता है ..

आज की रात सिर्फ और मुझे जीना है Read More »

वो लम्हा अब भी मुझे याद आता है

वो लम्हा अब भी मुझे याद  आता है II

वो पहली बार जब तुमसे नजरे मिली थी

मानो क्यारी की हर इक कलिया खिली थी

मन मेरा उमंगो से भर उठा था

दिल की धड़कने तेज हो गयी थी

इक टक देखता ही रह गया था

मेरी चेतना जाने कहाँ खो गयी थी

पल पल की वो याद अब भी  सताता है I

वो लम्हा अब भी मुझे याद आता है II

कुछ दिन हो चले थे

कुछ शिकवे तो कुछ गिले थे

रहते थे साथ हरदम

जैसे कब के बिछड़े मिले थे

उसकी  मुस्कराने की अदाये

 खुशबू से भर जाती थी फिजाये

मै मदहोश हो चला था

कुछ यूँ ही सिलसिला था

वो खुशबू अब भी सांसो में समां जाता है I

वो लम्हा अब भी मुझे याद आता है II

उसका रोज मन्दिर में पूजा करना

नजरे बचाकर मुझे देखा करना

टीका  लगाती बड़े प्यार से

फिर छूकर भी अनदेखा करना

मेरी हर बातो का समर्थन करती

घंटो बैठकर जाने क्या मंथन करती

फिर इक दिन कुछ ऐसा लम्हा आया

न बीतने वाला तन्हा मौसम लाया

रह रहकर मुझे तडपा जाता है I

वो लम्हा अब  भी मुझे याद आता है II


इसे भी पढ़े : पति पत्नी की नोक झोंक वाली कविता 

वो लम्हा अब भी मुझे याद आता है Read More »

पति-पत्नी नोंक – झोंक वाली कविता

5/5

एक पति-पत्नी कच्चे मकान में रह रहे है, थोड़ी नोक झोक के साथ उनकी दिनचर्या चल रही है I अब सुनते है उनकी इसी रोजरोज  की नोंक झोंक की एक झलक  –

पत्नी- सुनते हो जी 

पति – मै तो बहरा हूँ जी ।

पत्नी- आप तो बुरा मान गए ।

पति- हम आप की चाल जान गये ।

पत्री- आज क्या खाओगे , जो कहो वो बनाऊ ।

पति- मै मुर्ख हूँ जो आपनी मनपसन्द चीज बताऊ ।

पत्नी- ऐसे क्यों कहते हो , मैंने कब की है अपनी मनमर्जी ।

पति – करोगी जो तेरे मन में है, फिर मै क्यों लगाऊ  अर्जी ।

पत्नी- मेरे पास आओ अब दूर न जाओ, खूब सेवा करुँगी तुम्हारी ।

पति – मैं जानता हूँ खूब पहचानता हूँ, क्या मेरी मति गई है मारी ।

पत्नी – आ भी जाओ काम बहुत है , कुछ तुम करो कुछ मैं करू ।

पति- यह  सब तेरी जिम्मेदारी है , बेवजह ही मैं क्यों मरूं ।

पत्नी- मरे आपके दुश्मन , कुछ अच्छा खाने को है मेरा  मन ।

पति- लाला के यहाँ से कुछ मँगा ले, जो मर्जी है बनाले ।

पत्नी- लाला का बहुत उधार है, हमेशा पैसे ही मांगता है ।

पति- किसी का उधार  हमने दिया है,  क्या वो नहीं जानता है ।

पत्नी – इतना भी अच्छा नहीं होता, कर्जा चुका देना चाहिए ।

पति- तो जल्दी से मायके से अपने कुछ रूपये लेकर आईये ।

पत्नी- आप बात – बात पर मेरे मायके को मत लाया करो ।

         ये सब कहना  व्यर्थ है , हमेशा न सताया करो ।।

पति – मैंने तुझे कब कब सताया है, झूठ कहते तुझे शर्म नहीं आती ।

    मैं तेरे मायके को नहीं लाता, पर तू मेरे बाप पर जरुर है जाती ।।

पत्नी – वैसे तो मैं आपकी धर्मपत्नी हूँ , अर्धान्ग्निनी हूँ , सहभागिनी हूँ ।

         नाम भी महालक्ष्मी रखा है,  पर इस घर में अभागिनी हूँ ।।

पति- तू तो फिर भी भाग्यशाली है जो मेरे जैसा पति मिला है ।

         वर्ना मुझे पता है मायके में तेरा क्या क्या गुल खिला है ।।

पत्नी- ये सब कहते शर्म नहीं आती, मुझ पर इल्जाम लगाते हो ।

       खुद निकम्मे घर पर बैठकर जाने क्या क्या गुल खिलाते हो ।।

पति – अपने पति को निकम्मा कहते हुए तेरी जुबान नहीं कटती है।

         इतना ही बुरा हूँ अगर तो मुझसे ही सदा क्यों सटती है ।।

पत्नी – इस तरह से ताने यू हमको न मारो ।

        तुम्ही मेरे देवदास मै तुम्हारी पारो ।।

पति – तुम्हारी इसी अदा पर तो हम मरते है ।

         सच कहे हम सिर्फ तुमसे प्यार करते है ।।

पत्नी – छोडो इन बातो को कहो क्या बनाऊ ।

पति – पहले लाला से कुछ सामान उधार ले आऊ ।

इसी तरह से दोनों पति पत्नी ख़ुशी से रहते है ।

सिर्फ मन बहलाने के लिए ही झगड़ा करते है ।

इसे भी  पढ़े: तूने मुझे बुलाया मेरी वालिये 

पति-पत्नी नोंक – झोंक वाली कविता Read More »

पिता ही परम-पिता

तू मंदिर मंदिर भटक रहा , जिस प्रभु का करने को नमन I
इक भगवान है भूखा बैठा , जिसने दी है तुझको जीवन II
चढ़ा रहा फल फूल  मिठाई, धूप  नैवेद्य  करता अर्पण I
एक बूंद प्यास को तरस रहा, तेरे खातिर सब किया समर्पण II
अपने सपने पाने की खातिर, घुटने टेक करता विनती I
उसने तुझ पर कुर्बान किये, निज सपनों की न कोई गिनती II
इस पिता की आज्ञा से रामचंद्र, नर से नारायण तुल्य हुए I
पितृ भक्ति से न जाने कितने, सादे जीवन बहुमूल्य हुए II
जिस प्यार भाव से ऐ  बंदे, उस प्रभु का तू करता गुणगान I
बस एक बार दिल से पुकार, उस पिता को भी देकर सम्मान II
जो अब तक तुझको नही मिला, सच मान वो सब मिल जायेगा I
जो पूरा न कर सके  देवी देवता,  इक आशीर्वाद कर जायेगा II

इसे भी पढ़े: विश्वाश अपनों और गैरों के सहारे का मापदंड 

पिता ही परम-पिता Read More »