दोस्ती में सोच संकरा नहीं सकारात्मक रखे

Spread the love

दोस्ती में सोच संकरा नहीं सकरात्मक रखे

आप दो दोस्त है और एक काफी दिनों से परेशान हो, बहुत संघर्ष
कर रहा  हो, हर छोटी बड़ी बात उसकी तुम्हे पता है I

आप भी उसे सांत्वना  देते रहते हो की सब ठीक हो जायेगा I

फिर कुछ दिन बाद वो सिर्फ अपने बारे में बात करने लगता  है , की उसने ऐसा किया, उसने वैसा किया, आज उसे
एक उपलब्धि मिली है, आगे भी बात चल रही है इत्यादि I

अब आप सोचना शुरू कर  देते है की आपका दोस्त बदल चुका है , हर वक्त
अपने बारे में ही बात करता है , हर छोटी बड़ी उपलब्धियों को गिनवाता रहता है, कुछ
ज्यादा ही उड़ने लगा है, एकदम खुदगर्ज हो चुका है I

परन्तु सच तो ऐसा भी हो सकता है की वो आपके साथ हर छोटी बड़ी
ख़ुशी इसलिए साझा करता है की ताकि आपको लगे की अब उसके संघर्ष वाले दिन ख़त्म होने
वाले है I अब उसकी परेशानी ख़त्म होने वाली है I और ये सब बाते सिर्फ आपके साथ करता
है क्योकि वो सिर्फ आप ही हो जिसे उसके अतीत के बारे में,  सपनो के बारे मे,  हालत और हालात  के बारे में सब कुछ पता है I और आपको यह सब जानकर ख़ुशी होगी क्योकि आप उसके हमदर्द हो, हमसफर हो , आपसे कुछ ऐसा रिश्ता है
जिसे बयाँ नही किया जाता I

अब सोचना आपको है की आप इन बातो को किस  दृष्टिकोण से देखते है I 


इसे भी पढ़े : रिश्ते मुट्ठी में बंद रेत की तरह होते है 

Leave a Comment

Your email address will not be published.